NEWS

सावधान रहियेगा चीन के नाम पर आपका घर जलाया जा रहा है।

इस दिवाली चीन का माल खरीदे या नही,पढ़िए NDTV के एडिटर रविश कुमार के ब्लॉग से।

राष्ट्रवाद के नाम पर सिर्फ गरीब को ही जान माल का इम्तेहान क्यों देना पड़ता है। रेहड़ी,पटरी पर बैठ कर सस्ता माल बेचने वालों ध्यान से सुनो। मुझे पता है आपके पास खबरों का कूड़ेदान यानि अख़बार पढ़ने और चैनल देखने का वक़्त नही है। जिनके पास फेसबुक और ट्विटर पर उल्टियां करने का वक़्त है वो आपके माल की जात पता करना चाहते है।जोर शोर से अभियान चला रहे है कि इस दिवाली चीन का माल नही खरीदेंगे।इन लोगो ने आपके पेट पर लात मारने की योजना बनाई है।थोक बाजार से अपना माल खरीद कर आप अपने अपने ज़िलों और कस्बो की तरफ निकल चुकें होंगे। चीन का माल आपकी गठरी में आ गया होगा कि इस दिवाली कुछ कमाकर बच्चो के लिए नए कपडे बनवाएंगे। बच्चो की फीस भरेंगे। लेकिन अब फ़र्ज़ी राष्ट्रवादियों की नजर आपकी कमाई खत्म करने पर है। हर बार राष्ट्रवाद के नाम पर सिर्फ गरीब को ही जान और माल का इम्तेहान क्यों देना पड़ता है।

चीन का माल नही खरीदना है तो इन्हें भारत सरकार पर दवाब डालना चाहिये कि वह चीन से आयत पर प्रतिबंध लगा दे। भारत में काम कर रही कंपनियों को भगा देना चाहिए। बड़े कारोबारियो का गला पकडे कि वे चीन से माल न लाये।अरबो रूपये उनके भी दांव पर लग गए है मगर वे तो छोटे दुकानदारों को बेच कर निकल चुके है या फिर जो माल बचा है उसे मंडी में जला कर दिखा सकते है कि वो राष्ट्रवाद के आगे पैसे की परवाह नही करते।क्या ऐसा होगा? कभी नही होगा। चीन के खिलाफ अभियान ही चलाना है तो यह भी चले की किस-किस कंपनी का निवेश भारत में है।पूरी लिस्ट आए कि इनका माल नही खरीदेंगे और अगर खरीद भी लिया तो उसे कूड़ेदान में फेंक देंगे। 

Blogspot

आपने जो माल ख़रीदा है वो बेशक चीन का होगा लेकिन पैसा तो आपका है।उस माल का मालिकाना हक आपका है।अगर इन फेसबुकिये राष्ट्रवादियों को चीन के माल से इतनी ही नफरत है तो ये अपना स्मार्टफोन क्यों नही फेंक देते शहर के चौराहों पर।भारत में जहां जहां चीन है उसे खदेड़ना चाहिए,सरकार से बयान दिलवाना चाहिए कि वे चीन के माल का बहिष्कार कर रहे है इसलिए कंपनिया वहां के लोगो से कारोबार न करे।वहां से माल लाकर यहां के लोगो को न बेचे। सिर्फ दिवाली के वक़्त गरीब दुकानदारों के खिलाफ ये साजिश क्यों हो रही है। ये राष्ट्रवाद नही बल्कि पूरी योजना है कि कैसे इसी के नाम पर गरीबो को ही नही गरीबी को ही गायब कर दिया जाये।

सावधान रहियेगा।चीन के नाम पर आपका घर जलाया जा रहा है।अमेरिका ने जापान के दो शहरो पर परमाणु बम गिरा कर लाखों लोगो को मार दिया था।वही जापान आज अमेरिका में टोयोटा कार बेच रहा है। जिस देश से दुश्मनी के कारण ये चीन के माल का विरोध कर रहे है उस पाकिस्तान से तो अभी तक बाक़ी कारोबार चल रहा है।उसके रद्द होने का कोई औपचारिक एलान नही हुआ है तो China के माल का बहिष्कार क्यों हो रहा है।

इसीलिए जो गरीब दुकानदार है वो यह समझे कि कुछ लोग राष्ट्रवाद के नाम पर वीडियो गेम खेल रहे है।आपकी आवाज़ तो वैसे ही मीडिया से बेदखल कर दी गयी है।अब आपको पटरी से भी गायब करने की तैयारी है।

आपका 

रविश कुमार

(NDTV से जुड़े चर्चित एंकर रविश कुमार के ब्लॉग साभार से,यह लेखक के निजी विचार है )