BLOG TECHNO CULTURE

मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म

मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म
चित्रात्मक तस्वीर- सोर्स

आज हम इंसानियत के उस दौर में है जहां दूसरे ग्रह पर बस्तियों को बसाने की योजना का भी काम चालू हो गया है। मंगल पर पहली बस्ती बसाने की तैयारियों में ब्रिटेन की कंपनी मार्स वन वेंचर्स,और नीदरलैंड की मार्स वन फाउंडेशन मार्स वन प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं। हालांकि इन प्रोजेक्ट में शुरू से ही विवाद उत्पन्न हो गया है,क्योंकि मिशन पर उन्ही लोगो को भेजा जाना है जिन्हें वहां जाने के बाद बस्तियां बसाने के काम में जुटना था। मतलब साफ है , इस एकतरफा मिशन में मंगल पर बस्ती बसाने के लिए जाने वाले लोगो के धरती पर वापस लौटने की कोई गुंजाइश नही होगी। मंगल ग्रह पर इंसानों की बस्ती बसाने की कोशिशों में जुटी कंपनियों की योजना ‘मिशन टू मार्स’ पर  फ़िलहाल ग्रहण लग गया है इसके पीछे वित्तीय कारण है।

मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म
चित्रात्मक तस्वीर – सोर्स 

डच कंपनी के सहयोग से ब्रिटेन की कंपनी द्वारा मार्स पर इंसानी बस्तियां बनाने की योजना के तहत मंगल पर 2026 तक पहली मानव पहुँचाना था, लेकिन अब कंपनी को यह काम पूरा करने में 2031 तक का वक़्त लग सकता है।

नासा की तैयारी – 

यदि इन कंपनियों के साझा प्रयासों को छोड़ दे तो अभी तक सिर्फ नासा ने मंगल पर एक मानव रहित मिशन भेझा है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा मंगल के लिए 3 अभियानों की तैयारी की जा रही है।

मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म
चित्रात्मक तस्वीर- द मार्टियन फिल्म दृश्य

मंगल यात्रा- 4-4 लोगो का छह समूह का जाना तय 

मिशन मार्स-वन की इस योजना में मंगल ग्रह पर जाने वाले यात्रियों को धरती को हमेशा के लिए अलविदा करना होगा। इस पर 140 देशो के करीब 2 लाख लोगो ने फॉर्म भरकर,अपनी स्वीकृति भी दे दी थी,जिनमे से 100 लोगो को स्कूटनी हुई। इन सौ लोगो में से 24 को मंगल ग्रह के इस एकतरफा मिशन के लिए अंतिम रूप से चुना जाना था। इस पूरी प्रक्रिया के लिए एक टीवी शो का निर्माण भी किया जायेगा। अंतिम रूप से मंगल यात्रा के लिए चयनित होने वाले 24 यात्रियों को चार-चार लोगों के छह समूह बनाकर अंतरिक्ष में भेजने का प्रस्ताव है। मंगल ग्रह पर पहुँचने के बाद इन यात्रियों का सफर पूरी तरह समाप्त हो जायेगा, उन्हें बस वहाँ पानी खोजने,ऑक्सीजन पैदा करने तथा अपने लिए भोजन की तैयारी करने का काम करना होगा।

मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म
चित्रात्मक तस्वीर-सोर्स-नासा ब्लॉग
मंगल पर जाने वाले यात्रियों की धरती पर कभी नही होगी वापसी,लाखों लोगो ने भरा फॉर्म
चित्रात्मक तस्वीर- चार्ली ब्लॉग WordPress.com

वोह कहते है न की जिंदगी में कुछ पाने की ख्वाहिश रखते हो,तो कभी हार न माने। आखिर इंसानों को अब किस चीज़ की ख्वाहिश रह गयी है। ऐसा क्या हो गया है हमारे ग्रह पृथ्वी के साथ जिससे की हमे अब दूसरे ग्रहों पर जीवन तलाश कर वहां बस्तियां बनाने की योजना बनानी पड़ रही है ?। क्या पृथ्वी ग्रह आने वाले दशकों में इंसानी जीवन के लिए सुरक्षित नही रहेगी ?। क्या हम दूसरों ग्रह पर बस्तियां बनाने में कामयाब रहेंगें ? । पढ़िए अगले भाग में-….

……
आपको यह जानकारी प्रतिष्ठित न्यूज़ पेपर अमर उजाला, लंदन टाइम्स के न्यूज़ सर्विस और Trendy India Hub के Author के साझा सहयोग से प्राप्त हुई है। आपको यह जानकारी, पोस्ट कैसा लगा कमेन्ट सेक्शन में  अपनी राय जरूर लिखे या आप हमे ईमेल भी कर सकते है – trendyindiahub@gmail.com. धन्यवाद् !
हमारे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Socail Networks जैसे कि Facebook,Google+,Twitter और WhatsApp आदि पर शेयर करें.।